Solar SuperStrom सूरज के कोरोना से निकलेगा तूफ़ान!! – बिजली इंटरनेट होंगे बंद।

हमारे बड़े से सौर्यमंडल मैं कई हरकते होती रहती है उन मैं से है सोलार स्टॉर्म मगर इस बार आएगा Solar SuperStrom सूरज से आएगा महा तूफान। सूरज से करीब हर ११ साल मैं एक बार तूफान उठता रहता है मगर ऐसे ही करीब १०० साल मैं एक बार एक महा तूफान Solar SuperStrom भी आता है।

आखिर क्या है Solar Strom? सूरज की एक मोटी सतह होती है जिसे कोरोना कहा जाता है। हर १० साल मैं इस कोरोना सतह मैं छेद पड़ जाते है जहा से सूरज के अंदर की गरमी तेज तूफान के रूप मैं बाहर निकलती है। इसे ही सूरज का तूफान या Solar Strom कहते है।

Solar SuperStrom को आप Solar Strom का बड़ा रूप केह सकते है। करीब करीब १०० साल मैं एसी घटनाए होती है की सूरज से Solar SuperStrom निकलते है।

धरती पे आने वाला है सोलर सुपर स्टॉर्म कैसे होगा असर

क्या है Solar SuperStrom के नुकसान?

वेसे तो धरती का गुरुत्वाकर्षण सोलर स्टॉर्म को धरती से दूर ही रखता है और वायु मण्डल भी सूरज के हानिकारक किरणों को धरती पे आने से रोक देते है।

मगर Solar SuperStrom की ताकत कई गुना ज्यादा होने के कारण सूरज से निकली गरमी और किरने तो फ़िल्टर हो जाती है मगर सूरज से निकली मेग्नेटिक फोर्स और एनर्जी धरती पे आ जाती है।

यह इलेक्ट्रोमैग्नेटिक फोर्स कई प्रकार का नुकसान कर सकती है। जैसे हम सब जानते है २१ वी सदी इलेक्ट्रॉनिक सदी है और सभी इलेक्ट्रॉनिक उपकरने एलेक्ट्रॉनिकमाग्नेटिक फोर्स से प्रभावित होते है। तो इस आने वाले Solar SuperStrom से बिजली,फोन,इंटरनेट,मोबाईल, ऐसे सब चीजे प्रभावित हो सकती है।

Solar SuperStrom कितना करेगा नुकसान?

इस बार अगर Solar SuperStrom आता है और धरती से टकरा जाता है तो जीवित हानी का नहीं मगर हमारी दिनचर्या, व्यापार, इंटरनेट, बिजली, इलेक्ट्रॉनिक उपकरने आदि का भारी नुकसान हो सकता है।

  • इस सोलर सुपर स्टॉर्म की वजह से दुनिया को जोड़ने वाले सेटेलाइट को असर हो सकता है।
  • साथ ही जो optical fiber समंदर मैं बिछे पड़े है जिस से हम इंटेरेंट चला सकते है, इसे भी नुकसान का खतरा है।
  • २१ वी सदी के जो बड़े बड़े बिजली के ग्रिड है जहा से बिजली हमे मिलती है उन्हे भी नुकसान की संभावना है।
  • ये सोलर सुपर स्टॉर्म करीब करीब १ हफ्ते से लेकर १ महीने तक हमे इंटेनरनेट और बिजली से दूर कर सकता है

अगर ऐसा होता है और इंटरनेट बंद हो जाता है तो अकेले अमेरिका को एक दिन मैं $७ बिलियन यानि ₹५० करोड़ का नुकसान हो सकता है। तो पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था का अनुमान आप लगा लीजिए।

क्या है Solar SuperStrom के नुकसान
source: NDTV

क्या भूतकाल मे Solar SuperStrom आया है?

हा भूतकाल मैं भी ऐसे २ Solar SuperStrom आए है। १८५९ & १९२१ मैं यह घटना २ बार दोहरा चुकी है और वैज्ञानिको की माने तो इस बार २०२१ मैं इस तूफान की १.६% से १२% संभावना है की ये धरती से टकराएगा। और हमे सिर्फ १३ घंटे ही मिलेंगे कोई भी तयारी करने के लिए।

१८५९ मैं इस तूफान का ज्यादा असर नहीं दिखा था तब ना ही इलेक्ट्रॉनिक उपकरने थी और ना ही बिजली हर जगह मौजूद थी। मगर १८५९ के Solar SuperStrom ने तब के टेलेग्राम मशीन बिगाड़ दिए थे और उस पर काम करने वाले मजदूरों का कहना है की उनको हल्के बिजली के झटके भी लगे थे।

१९२१ मे इस तूफान से बजली का भारी नुकसान हुआ था कॅनडा के एक प्रांत क्यूबेक की बिजली चली गई थी।

Conclusion:

ऊपर दिए गए Solar SuperStrom न्यूज को कृपया अपने सोर्स से जाच ले। ये न्यूज ऑनलाइन रिसर्च से ली गई है और यह एक अनुमानित न्यूज है। इस न्यूज की वजह से आप को परेशान होने की कोई जरूरत नहीं है। यदि कोई आपत्ति जनक स्थिति आ जाती है तो हर देश की सरकारे हमारे लिए सतर्क है।

Leave a Comment